लॉकडाउन में अपने दिमाग का लॉक खोलें। Antas Yog by Indu Jain

यह जरूरी नहीं, कि जो लोग आपके सामने आपके बारे में अच्छा बोलते हो। वह आपके पीछे भी यही राय रखते हो खैर छोड़ो....

कुछ मत सोचो... और कब तक सोचते रहोगे कि Lockdown कब खुलेगा - कब खुलेगा बस अपने दिमाग का लॉक खोलो, जो माइंड में अनादि काल से लॉक पड़ा है बस उसकी चाबी ढूंढ लो और थोड़ा सा दिमाग चलाना बंद कर दो, क्योंकि अभी आपके हाथ में कुछ भी तो नहीं है, और जब तक हम किसी भी सोच विचार में पड़े रहेंगे, तब तक हमें आत्मिक विचार यानी वास्तविक सुख नहीं मिलने वाला। यह विचार जब आपकी चाबी के माध्यम से खुलेगा, तभी आपके दिमाग में शांति आएगी और जब दिमाग शांत होगा, तभी आपको अपनी वास्तविक सुख की अनुभूति होगी जिसे कहा जाता है रियल हैप्पीनेस।

ध्यान रहे, जो चीज जहां उपलब्ध होती है अगर आप उसे वहीं पर प्राप्त करने की चेष्टा करोगे, तो वह चीज वहीं पर मिलेगी। जिस यात्रा पर हम अंतस की धारा में है, यानी जो हमारी spiritual journey है, उसका वास्तविक आनंद, उसका स्रोत कहां है ? वह कहां से प्राप्त होगा, वह कहां पर रहता है, आज आपके पास भरपूर समय है, सोचने का, समझने का अच्छे ढंग से अभ्यास करने का।

हम अपने मन को या इंद्रियों को भटकाते रहते हैं, अपना दिमाग जरूरत से ज्यादा चला लेते हैं। तो हमें उस परम आनंद की क्षणिक अनुभूति भी नहीं हो सकती। अगर कोई चीज कहीं पर है और हम उसके थोड़ा सा भी निकट चले आते हैं तो कहीं ना कहीं उसकी थोड़ी सी अनुभूति हमारे भीतर आ जाती है।

अगर आपको भूख लगी है, और आप किसी रेस्टोरेंट में जाते हैं हालांकि आपने अभी कुछ खाया भी नहीं है, लेकिन आपको अनुभूति हो जाती है कि हां खाना जरूर मिलेगा ठीक उसी प्रकार यदि हमें पता चल जाए कि परम आनंद कहां रहता है, वह कहां से मिलता है, अगर उस परम आनंद की थोड़ी सी भी निकटता हमारे पास आ गई तो वह सोच ही हमें सुगंधित कर देगी, और जब तक हमें यह नहीं पता कि परम आनंद मिलता कहां है तब तक भटकन के सिवा कुछ भी हाथ नहीं लगेगा। सिर्फ द्वंद ही द्वंद, विषाद ही विषाद ... कि जीवन में अबआगे क्या होगा।

सामान्यता लोगों की यह धारणा है, कि जो भी हमें सुख दुख मिलता है, और उसमें यदि सुख की मात्रा बढ़ती चली जाए तो यही स्थिति हमारे को परम आनंद की तरफ ले जाएगी। दुख से हटकर सुख में जाने की चेष्टा में भी एक हम एक गलत दिशा में बढ़ते चले जाते हैं, ध्यान रहे आज हम जितना भी सुख और दुख का अनुभव कर रहे हैं वह सब मानसिक है।

पत्थर नहीं हूं मैं मुझ में भी नमी है, दर्द बयां नहीं करती बस इतनी सी कमी है।

यह केवल हमारी मनोदशाएं हैं, और यह मनोदशा क्षण क्षण में बदलती हैं। मान लीजिए आप घर में बैठे हैं अगर आप की मनोदशा अच्छी है, तो घर आपको अच्छा लगेगा अगर आप की मनोदशा खराब है, तो वही घर आपको कैदखाना लगेगा। सिर्फ मनोदशा के अनुसार ही हमारे सुख और दुख बनते हैं। किसी को घर में रहकर सुख मिल रहा है बहुत अच्छा लग रहा है, जो भी छूटे हुए काम थे वह पूरे हो रहे हैं किसी की spiritual journey बहुत तेजी से बढ़ रही है, उन्हें परम आनंद की प्राप्ति हो रही है तो दूसरी तरफ यही लॉकडाउन किसी के लिए कष्ट का कारण भी बन सकता है यह डिपेंड करता है, कि हमारे सोचने का ढंग क्या है, जब व्यक्ति सुख और दुख में ही अपने मन को भटकाता रहता है, तो वह यह सोच ही नहीं पाता कि सुख भी दुख की तरह क्षणिक होता है, यह सुख का नाम परमानंद नहीं है जिसको वह सुख समझता है। अपने मन की इच्छा के अनुसार कुछ हो गया तो हमारे भीतर हैप्पीनेस आ गई हम सुखी महसूस करने लगे ।

हमारी इच्छा के विरुद्ध कुछ हो गया तो हमारे भीतर dullness, sadness आ गई और भीतर एक क्लेश उत्पन्न हो गया। हम अपने आप को दुखी बना कर बैठ गए यह सिर्फ मन की ही दशाएं है सिर्फ मन के ही परिवर्तन है, मन की दशाओं में उस परम आनंद की अनुभूति होती ही नहीं जो व्यक्ति सिर्फ इतना ही जानते हैं कि मन की इच्छा पूर्ति से सुख मिल जाता है, वह कभी भी इस अंतस की यात्रा के पथिक नहीं बन सकते।

वह कभी भी उस परम आनंद की यात्रा पर अपने को चला ही नहीं सकते। पहले हमें यह समझना होगा कि यह परम आनंद रहता कहां है मन में रहता है, यह देखने सुनने में रहता है, इंद्रियों में रहता है, विचारों में रहता है, वह रहता कहां है इसके बारे में जब तक हम नहीं जानते हमारी स्थिति वही होगी कि हमारे पास पूंजी तो है, लेकिन किस दुकान पर क्या मिलने वाला है, और मुझे क्या खरीदना है पता ही नहीं। तुम घूम रहे हो, ढूंढ रहे हो जब तक तुम सही जगह नहीं पहुंचेंगे, तुम्हारे लिए वह भटकन बनी ही रहेगी बीच-बीच में कभी-कभी कोई आश्वासन भी दे देता है, कि हां तुम्हारे मतलब की चीज है तुम थोड़ी देर relax भी हो जाओगे, लेकिन उससे स्थाई सुख नहीं मिलेगा। बल्कि आपके भीतर यह प्यास उठ जाए, सुनते सुनते की परम आनंद ही हमारा अंतिम लक्ष्य है। उस आनन्द को प्राप्त करने के लिए यह मानव चोला मिला है। आपने अपने Mind को थोड़ा सा भी शिफ्ट किया, तो हमें भले ही उस पर आनंद की अनुभूति ना हो, लेकिन उसके निकट पहुंचने पर हमें उसकी झलकियां जरूर मिलेगी। हमें लगेगा कि वास्तविक आनंद इसी भावना में है। मैं अभी और यहीं सुखी हूं।

हालांकि अभी लॉकडाउन चल रहा है हम सभी घरों में हैं, परिवार में है, संपत्ति में है, खाने पीने सभी इंद्रियों के भोगों में है, हम सुखी होने चाहिए लेकिन हो क्या उसमें आनंद की प्राप्ति हो रही है क्या ??

अभी तो शुक्र करो, कि आप घर में बैठे हो सुरक्षित तो हो, कोरोना का यह कहर कम से कम घरों में आपको सुरक्षित किए हैं, लेकिन सोचो कभी इससे ज्यादा कहर आया तो क्या करोगे, हर चीज के लिए तैयार रहना चाहिए । इस कहर में आप घर के भीतर सुरक्षित तो हो लेकिन कुछ कहर ऐसे होते हैं जैसे भूकंप तब क्या करोगे। आपको पता चल जाए कि इस समय इतने बजकर, एक भूकंप आने वाला है फिर कहां शरण लोगे यहां सब कुछ हो सकता है। लेकिन हमारे पास कुछ ऐसा होना चाहिए, जिसके होने पर हमें किसी भी चीज से डर ना लगे अगर हमारे दिमाग में थोड़ा सा भी विश्वास आ जाए, थोड़ा भी किसी हायर के प्रति समर्पण भाव आ जाए, आकर्षण आ जाए, तो फिर रूपांतरण की घटना अपने आप घटती है, तो उस विश्वास मात्र से आपके भीतर सभी भय समाप्त हो जाएंगे। डर उनको लगता है जो अपनी अज्ञानता के कारण से उन चीजों में सुख मान लेते हैं, जिनमें सुख नहीं है, और उसी सुख में लिप्त होकर हम यह समझ लेते हैं, कि हमने परम आनंद को प्राप्त कर लिया। इसीलिए हमेशा सद्गुरु ने समझाया कि उस परम आनंद की अनुभूति के लिए यह हमारा जन्म हुआ है। और वह आनंद हम सबके भीतर में है अंतस में है, बस स्वयं के भीतर झांकने की जरूरत है बंद आंखों से.... बस अपने माइंड का लॉक खोलने की जरूरत है।

परमानंद का मतलब यही है, कि हम उस आध्यात्मिक अंतस की यात्रा पर निकले हैं, जहां पर पहुंचने के बाद फिर कोई खतरा नहीं, कोई डर नहीं जिसका विश्वास होने मात्र से आदमी निडर हो जाता है। ऐसे परम आनंद में डूबने की जब हम जिज्ञासा पैदा करते हैं, तभी आपको किसी के औरा में, सानिध्य में आने का मौका मिलता है। वह आपके जीवन की प्रमुख घटना होती है फिर उसके बाद कोई दुर्घटना नहीं घटती।

पता है, तुम्हारी और हमारी मुस्कान में क्या फर्क है तुम खुश हो कर मुस्कुराते हो हम तुम्हें खुश देख कर मुस्कुराते हैं।

Om Namah

व्याकरण संबंधी त्रुटि के लिए मैं क्षमा प्रार्थी हूं।

ANTAS YOG by Indu Jain

Read more...

Treatment of Sciatica Pain / 5 Yoga Exercise for Sciatica Pain Relief

5 वैज्ञानिक और आसान से योगासन जो साइटिका के दर्द से देंगे राहत।

Sciatica Pain पैरों की नसों में होने वाला तेज दर्द है इस दर्द से परेशान व्यक्ति ना तो ढंग से चल फिर पाता है और ना ही काफी देर तक खड़ा हो पाता है इसके अलावा इस दर्द के कारण उसके रोजमर्रा के काम में भी कई बार दिक्कतें आ जाते हैं।

यह दर्द कमर के निचले हिस्से से शुरू होकर हिप्स जांघों से होते हुए पैरों की एड़ी तक चला जाता है। लेकिन कुछ योगासन के नियमित रूप से अभ्यास करने पर साइटिका की समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है इस वीडियो में हम आपको वैज्ञानिक ढंग से 5 योगासन बताएंगे जो आपको इस प्रॉब्लम से छुटकारा दिलाएंगे।

साइटिका का दर्द ज्यादातर शरीर के एक हिस्से में, एक पैर में बहुत तेज होता है उस समय यह दर्द आपको बहुत बेचैन कर देता है आपको काम करने में भी थोड़ी बहुत असुविधा हो सकती है। इससे उठने वाला तेज दर्द अचानक या किसी खास वक्त में उठता है जिसमें आप खुद को बहुत लाचार महसूस करने लगते हैं

इस सभी योग आसनों के अभ्यास से आपकी रीड की हड्डी फ्लैक्सिबल होती है आपकी स्ट्रैचिंग इंप्रूव होती है यह सभी एक्सरसाइज आपके हिप्स में लचीलापन को बढ़ाती हैं और हिप्स जांघों और कमर के निचले भाग की जकड़न को दूर करती हैं।

Thanks

 

https://www.youtube.com/watch?v=7All8PtPNsI&t=32s

Cure Sciatica Pain 100%

Read more...

5 Easy & Effective Exercises To Reduce Side BELLY Fat Fast | Super Exercises by ANTAS YOG

https://www.youtube.com/watch?v=HEegjpy_nkQ&t=26s

पेट और कमर की चर्बी कम करने का आसान तरीका

Best 5 एक्सरसाइज & Tips To Reduce belly fat in HIndi

अगर आपको अपने शरीर में लगातार भारीपन लगता है या बॉडी में laziness रहती है तो सावधान हो जाइए पेट पर थोड़ी बहुत चर्बी होने को सामान्य माना जाता है लेकिन अगर वही चर्बी जरूर से ज्यादा होती है तो हमें कई बीमारियों से जूझना पड़ता है। जैसे पीसीओडी की प्रॉब्लम, हार्मोनल प्रॉब्लम, यूट्रस रिलेटेड कई डिजीज, इसके साथ साथ डिप्रेशन मोटापा और अन्य बीमारियां अपने आप चली आती हैं। इस सभी बीमारियों से छुटकारा पाने के लिए इस सभी एक्सरसाइज को एक बार अपनी डेली रूटीन में शामिल करके देखिए और अपना अनुभव हमें कमेंट सेक्शन में जरूर शेयर कीजिए।

Thanks

Read more...

Great Cardio Exercises at Home | Cardio you can do sitting down

https://www.youtube.com/watch?v=X6xtMD hi7x1Mc

Sitting Chair Cardio Exercises in Hindi

जी हां, अब आप चेयर पर बैठे बैठे अपना वजन कम कर सकते हैं, आज हम आपको ऐसे 10 वर्क आउट बता रहे हैं जिसमें केवल एक चेयर की आवश्यकता होगी। चेयर की हेल्प से आप कार्डियो वर्कआउट करके अपनी बॉडी को फिट रख सकती हैं और अपना easily वेट लॉस कर सकती हैं बस आपको समय देने की जरूरत है अपने आपको

सुबह और शाम सिर्फ पांच 5 मिनट

कैलोरीज को बर्न करने के लिए कुर्सी पर बैठे बैठे करें ये 10 कार्डियो एक्सरसाइज। आज तक तो आपने केवल कुर्सी पर लगातार बैठने के नुकसान ओं के बारे में सुना होगा लेकिन अब आप कुर्सी की मदद से कुछ ऐसी कार्डियो एक्सरसाइज भी कर सकते हैं जो आप को तंदुरुस्त एवं फिट रख सकती हैं जीवन भर। टोटल बॉडी वर्कआउट के लिए वीडियो को अंत तक जरूर देखें।

Follow the exercise routine

अपने अनुभव को कमेंट सेक्शन में जरूर शेयर करें।

एक्सरसाइज और फिटनेस रूटीन

Read more...